Sunday, 3 February 2013

andhe hi to hai sab

आँख के अंधे और नाम नयन सुख !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! ये आप किस को कह रहे है ??????????????? मैं भला इस देश में किसको कह सकता हूँ ...अगर आपको अच्छा लगे तो मैं खुद को कह रहा हूँ >>>>>>>>>क्या आपने मुझको पागल समझ रखा है भला कोई अपने को खुद अँधा कह कर मजाक उडाता है ?????????????????? अगर आपको लगता है कि ऐसा नहीं हो सकता और सभी अंधे ही है तो मैं क्या कह सकता हूँ ????????????? पर यह भी सच है कि लोगो को आसमान नीला दिखाई देता है !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! काश उनके पास आंख होती और सब पढ़े लिखे होते ....................शुभ रात्रि


1 comment:

  1. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete