Saturday, 24 March 2012

suprabhat

मेरे हिस्से में राख सही ,
तेरे हिस्से में फूल मिले ,
पग पग पर कांटे हो मेरे ,
हर सुबह तुम्हे मुस्कान मिले ................आप सभी को एक खुबसूरत सुबह का नया आयाम मिले .....डॉ आलोक चांत्टिया

1 comment:

  1. सुंदर अतिसुन्दर ......

    ReplyDelete